Tag Archives: poem on success and hard work in hindi

Hindi Poem on Success-वो आज कामयाब है

वो आज कामयाब है, क्योंकि
जब वो जग रहे थे रातो में ,
तब हम सो रहे थे ख्वाबो में।
जब वो पढ़ रहे थे किताबो को ,
तब हम पढ़ रहे थे व्हाट्सप्प को।
जब वो कर रहे थे कोशिश
अपनों का सपना पूरा करने की,
तब हम कर रहे थे कोशिश गैरो का
सपना पूरा करने की ।
जब वो नजरबन्द थे एक कमरे में ,
तब हम दिख रहे थे सिटी मॉल,
सिनेमा हालो में । जब वो उलझे थे
किताबो से , तब हम उलझे थे
राजनीतिक मुद्दों से ।
जब वो उलझे थे देश-विदेश की खबरों में ,
तब हम उलझे थे गांव देश की फ़ोन कालो में ।
वो आज कामयाब है.

-राहुल पटेल

Wo aaj kamyaab hai kyuki
Jab wo jaag rahe they raaton mein
Tab hum so rhe they khwabon me
Jab wo padh rhe they kitabon ko
Tab hum padh rhe they whatsapp ko
Jab wo kar rhe they koshish
Apno ka sapna pura karne ki
Tab hum kar rhe thay koshish garon ka sapna pura kane ki
Jab wo nazar band they ek kamre mein
Tab hum dikh rhe they siti mall cinema haalon mein
Jab wo uljhe they kitaabon se
Tab hum uljhe they rajnatik mudho se
Jab wo desh videsh ki khabron mein
Tab hum uljhe they gaon ki phone callon mein
Wo aaj kamyaab hai

-Rahul Patel

Hindi Poems on Philosophy-रोशनी भरी डिब्बी

एक छोटी सी है डिब्बी जिसमे है कुछ रोशनी भरी
एक बिंदु एक ज्योति के समान संपुर्ण फिर भी निराकार।।
रोशनी तेज़ इतनी की सूरज भी शरमाये गर्म इतनी की
एक मादक विस्फोट से हो जाये इस प्रकाश को मैं समेटना चाहती हूँ
ताउम्र इसी रोशनी में नहाना चाहती हूँ
इसकी गर्माहट में पिघलना चाहती हूँ
फिर पिघल कर फिर से घड़ना चाहती हूँ।।
एक छोटी सी है डिब्बी जिसमे है कुछ रोशनी भरी ……
यह रोशनी नही मगर है तरंगों का समंदर इस समंदर में मैं मछली बन तैरना चाहती हूँ
एक गोताखोर सी बन इसकी गहराई में उतरना चाहती हूँ
थोड़ी इठलाती हुई मै फिर से उभरना चाहती हूँ।।
इक छोटी सी है …. यह नही सिर्फ रोशनी है
यह एक जादूगरी इक गुदगुदी और अजीब सी सिरहन से भरी
इस गुदगुदायी सिरहन में मै लिपटना चाहती हूँ
इस जादूगरी को मै अपनी बाहों में भरना चाहती हूँ इक छोटी सी है ……
है नही ये सिर्फ रोशनी ये है प्यारी मिलान की रात अपने प्रियतम को समर्पित
एक अनूठी सौगात इस रात की चांदनी में मै चमकना चाहती हूँ
इस मिलन के क्षड़ों में में ठहरना चाहती हूँ मैं नाचना चाहती हूँ
में झूमना चाहती हूं इस ज्योति बिंदु को में चूमना चाहती हूँ ।। इक छोटी सी है ….
इस रोशनी का है जो एओह एक रोशनकार वही तोह है
व्याप्त और देता सबको आकार उस रोशनकार के हाथों मैं संवरना चाहती हूं
जड़ बन उसके हाथों फिर निखरना चाहती हूं उस ज्योति बिंदु में मैं समाना चाहती हूँ
मैं पिघलना चाहती हूं मैं मचलना चाहती हूं इस रोशनी में मैं नहाना चाहती हूं
मैं नाचना चाहती हूँ मैं झूमना चाहती हूँ।।।
इक छोटी सी है डिब्बी जिसमे है कुछ रोशनी भरी।।।।

-शिल्पा

Ek chotti si hai dibbi jisme hai kuch roshni bhari
Ek bindu ek jyoti ke saman sampuran fir bhi nirakar
Roshni tez etni ki suraj bhi sarmaye garm etni ki
Ek madak visfot se ho jaye es parkash ko main smeintna chahti hoon
Taumar es roshni menhana chahti hoon
Eski garmahat mepighlna chahti  hoon
Fir pighal kar fir se gadna chahti  hoon
Ek chotti si hai dibbi jismekuch roshni bhari
Yeh roshni nai magar hai tarngon ka samndar es smandr memain machli ban tarna chahti  hoon
Ek gotakhor si ban es gahrai meutrna chahti  hoon
Thodi ethlat  hoone main fir se ubhrna chahti  hoon
Ek choti si hai yeh nai sirf roshni hai
Yeh ek jadugari ek gudguddi aur ek ajv si sirhan se bhari
es gudgudayi sirhan memain liptna chahti  hoon
Es jadugari ko main apni bahon mebhrana chahti  hoon..ek choti si hai
Hai nahi ye sirf roshni ye hai.pyari milan ki raat apne priytam ko samrpit
Ek anuthi saugaat es raat ki chandani memain chamkna chahti  hoon
Es milan ke shdo memain thahrna chahti  hoon main nachna chahti  hoon
Main jhumna chahti  hoon. es jyoti bindu ko main chumna chahti  hoon ek choti si hai
Es roshni ka hai jo a  oh ek roshnakar whi to hai
Viyapat aur deta sabko aakar us roshnakar ke hathon main svarna chahti  hoon
Jad ban uske hathon fir nikhrna chahti  hoon es jyoti bindu memain smana chahti hoon
Main pinghlna chahti  hoon main machalna chahti  hoon es roshni mein  main nhana chahti  hoon
Main nachna chahti  hoon main jhumna chahti  hoon
Ek chotti si hai dibbi jismehai kuch roshni bhari

-Shilpa