Category Archives: Hindi Poem on Objects

Hindi Poem on Objects-हाँ हूँ मैं


हाँ हूँ मैं
नया अभी
कवि नहीं
कवि कभी
जो चाहे कह लो,
जो सोचो
वही सही
हा पर मैं
हूँ कही
था सही
हूँ सही
मन की बात
कहुँ कभी
पर माने मेरी
कोन सही
पागल हूँ मैं
यही सही
क्यो भाई
“हाँ सही”
समाज अभी
क्या कहे
पल में बदले
देखो सभी
जाने कहाँ
मुझे अभी,
अभी कुछ भी
ना सही,
हा कहे
सो कहे
बेकार मुझे
ना कहे
अभी शुरू
हूँ ही,
क्या कहूँ
क्या कहूँ
नया रूप
देख मेरा
मुझसे पूछे
सब अभी
ना कहूँ
क्या कहूँ
“अभी बस शुरूआत सही”
अभी नहीं
अभी नहीं,
हाँ कुछ हूँ
पर अभी नही
याद करेगे
कभी कभी,
इक पागल था
यही कही
हाँ हूँ. मैं
नया अभी
कवि नहीं
कवि कभी
– मनोज कुमार बदलानी

Advertisements

Hindi Poem on News- आज फिर मैंने अख़बार पढ़ी


आज फिर मैंने अख़बार पढ़ी
थोड़ी सी तकलीफ थोड़ी उदासी बढ़ी
आज फिर मैंने अख़बार पढ़ी
कहीं एक नन्हा इनक्यूबेटर में जल कर स्वाहा हुआ
कहीं स्कूल कहीं दुकान में बच्चियों संग अनचाहा हुआ
किसी बहु ने अपनी सास की ले ली जान
किसी आतंकवादी के हाथ वीर हुआ कुर्बान
मैंने खुद से आखिर किया अंतिम इकरार
इतने दिन बिना अख़बार कितने थे मज़ेदार
अब मैं फिर सोचती हूँ खड़ी खड़ी
अफ़सोस मैंने आज क्यों अखबार पढ़ी
-अनुष्का सूरी

(यह कविता दिनांक २ ८ सितम्बर, २०१७ की अखबार को पढ़कर रची गयी है)

Hindi Poem on Spectacles-चश्मा पर कविता


spectacles-chashma

नाक कान पर मैं टिकता हूँ
कांच प्लास्टिक में बिकता हूँ
जैसे ही हुई किसी की नज़र कमज़ोर
आजाता हूँ तुरंत सेवा में उसकी हुज़ूर
प्लस माइनस पावर मेरे लेंस हैं
आंकड़े ये नज़र की जांच से हैं
मुझे पेहनने में न करो शर्म भाई
मैं नुकसान से रक्षा करूँ सदा ही
पढ़ने लिखने देखने में हूँ मददगार
शर्त ये है की पहनो मुझे लगातार
फिर भी अगर मुझे पसंदीदा न पाओ
तो मेरे बदले तुम कांटेक्ट लेंस लगाओ
-अनुष्का सूरी

चश्मे के बेहतरीन फ्रेम खरीदें (अमेज़न से):

Hindi Poem on HP Sprocket – एच पी के सबसे छोटे प्रिंटर स्प्रॉकेट पर कविता


laser-printer-149815_960_720 (1).png

भाइयों और बहनों ये है स्प्रॉकेट
छोटा सा प्रिंटर चलता जैसे राकेट
आयी ओ एस हो या हो एंड्राइड
मोबाइल से तस्वीर निकले ड्राइड
कुछ क्षण में प्रिंट आउट निकालो
कहीं भी कभी भी तस्वीर बना लो
अपनी यादों को तुम जगा लो
एक स्ट्रॉकेट घर में लगा लो
दाम रुपये १०,००० है इसका
पर अमेज़न पे सस्ता है बिकता
चलो तकनीक की तरक्की संग
बदल रहे हैं उन्नति के रंग
-अनुष्का सूरी

अगर आप भी स्प्रॉकेट खरीदना चाहते हैं तो यहाँ से खरीद सकते हैं:

अगर आप स्प्रोकेट खरीद चुके हैं, तो निम्न अक्सेसरीज़ देखें:


laser-printer-149815_960_720 (1).png

Hindi Poem on Internet-इंटरनेट पर कविता


student-849825_960_720.jpg

सारी दुनिया से जुड़ जाओ
जब भी तुम इंटरनेट चलाओ
कोई भी जानकारी गूगल करलो
मेरे ज़रिये ब्रह्माण्ड टहल लो
अमेज़न प्राइम पर मूवी देखो
ओ एल एक्स पर कुछ भी बेचो
पेप्परफ्राई पर फर्नीचर लो
मेक माय ट्रिप पर हवाई टिकट लो
इन सब से अगर तुम थक जाओ
तो मेरे ज़रिये ज्ञान जुटाओ
सब प्रश्नों के उत्तर दे दूँ
तुमको और भी बेहतर कर दूँ
पर एक बात का रखना ख़याल
सही दिशा में हो इस्तमाल
न हो कोई साइबर अपराध मगर
वरना जेल का तय होगा सफर
– अनुष्का सूरी