Category Archives: Hindi Poems on Life

Hindi Poems on Life – चौराहा राह भटक गए


चौराहा राह भटक गए राह भटकते है
चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
एक रास्ता हो तो चले,आखिर कितने रास्ते चले।
मंजिल भी तो तय नही, किसके वास्ते चले।
इस चौराहे के हर रास्ते अलग मंजिल दर्शाते हैं।
कुछ लोग तो मंजिल पहुंचकर भी वापस लौट आते है।
ये अनजाने रास्ते मन को खटकते है।
राह भटक गए राह भटकते है।
ये अनजाने रास्ते और और कई सारे है
इनमे चलते चलते चलते हां… हम हारे है।

एक रास्ता,दो रास्ते राहगीर को परेशान कर देती राहे है।
मंजिल सामने फिर भी उसे ढूढती निगाहे है।
इन निगाहों कि तड़प को जानता है
हम सच भी कहे कौन मानता है
इस मंजिल को देखने के लिए आँखे तरसती है
कभी कभी तो बादलो की तरह बरसते है
वो तब जब राह भटकते है

चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
जिंदगी चार दिन की है चलते चलते गुजर जाएगी
जब हम आपसे दूर हो जाएंगे तब हमारी याद आएगी
मेरी चाहत बदलो सी है जिन्हें राहत मिलती नही ।
और मुस्कान……….. मुस्कान है
कांटो सी जो कभी खिलती नही।
कई तरह के सपने लेकर चैराहे में खड़े है।
कौन सा रास्ता सही रहेगा इसी सोच में पड़े है।
मंजिल डर नही हमारी मजबूरी है
एक रास्ता चुनना और उसमें चलना भी तो जरूरी है।

-संतोष

Chauraha raah bhatak gye raah bhtakte hai
Chauraha bhi aaye jo man ko khatkte hai
Ek rasta ho to chle, aakhir kitne raste chle
Manzil bhi tay nahi kiske vaste chale
Es chaurahe ke har raste alag raste alag manzil darshate hai
Kuch log to manzil phuch kar bhi bapis laut aate hai
ye anjane raste man ko khatkte hai
Raahbhatak gye raah bhatkte hai
Ye anjane raste aur kai sare hai
Enme chalte chalte haan hum hare hai

Ek rasta, do raste rahgeer ko pareshan kar deti hai
Rahe hai manzil samne fir bhi use dhundti nigaahe hai
En nigahoon ki tadap ko janta hai
Hum such bhi kahe kon manta hai
Es manzil ko dekhne ke liye aankhei tarsti hai
Kabhi to badlon ki tarh barsti hai
Wo tab jab raah bhatkte hai

Chaurahe bhi aaye jo man ko khatkte hai
Zindagi char din ki hai chalte chalte guzar jayegi
Jab hum aapse dur ho jayenge tab humari yaad aayegi
Meri chahat badlon si hai jinhe rahat milti nahi
Aur muskaan muskaan hai
Kanton si jo bhi khilati nhi
Kai tarh ke sapne lekar chaurahe me khade hai
Kon sa rasta sahi rhega yahi soch me pade hai
Manzil dar nahi hmari majburi hai
Ek rasta chunna aur chalna bhi to jaruri hai

-Santosh

Advertisements

Hindi Poems on Life-ज़िन्दगी


ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी ख़ुशी देती है कभी गम देती है
फिर भी जीना तो हर हाल में पड़ता है
कुछ खो कर,तो कुछ पा कर रहना पड़ता है
बस यही ज़िंदगी है यही सब कुछ है
कुछ भी नहीं पास मेरे
तेरी यादें ही सब कुछ है
सब कुछ खो कर भी
बहुत सारी यादें छोड़ जाती है
ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी खुशी कभी गम दे जाती है
रोने से क्या होगा हमेशा खुश रहना चाहिए
सबकी खुशी  के लिए हमेशा खुश रहना चाहिए
अपने लिए ना सही अपनों के लिए जीना चाहिए
बस -बस ऐसे ही ज़िन्दगी जीना चाहिये  
ज़िन्दगी हर सुख़ हर सुख में
बहुत कुछ सिखाती है
ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी खुशी दे जाती है कभी गम दे जाती है
कुछ भी नहीं है मेरे पास ये सोचना छोड़ दो
हर दुःख ,तकलीफो को भूल कर  
ज़िन्दगी जिओ तुम्हारा खुश रहना ही
तुम्हारी ज़िन्दगी है सबको प्यार दो, खुशी दो , 
छोटी ही सही पर ज़िन्दगी यही सिखाती है
कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कई यादें दिल में छोड़ जाती है
किसी से कुछ भी उम्मीद मत रखो
सदा आगे बढ़ते रहना चाहिए
ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी खुशी देती है कभी गम देती है

– नितेश शर्मा

Zindagi kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gam de jaati hai,
Phir bhi jeena to har haal me padta hai,
Kuch khokar, to kuch paakar rehna padta hai,
Bas yahi zindagi hai, yahi sab kuch hai,
Kuch bhi nahi paas mere,
Teri yaade he sab kuch hai,
Sab kuch khokar bhi,
Bohot saari yaade chhod jaati hai.
Zindagi kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gam de jaati hai,
Rone se kya hoga, hamesha khush rehna chahiye,
Sabki khushi ke liye, hamesha khush rehna chahiye,
Apne liye na sahi, apno ke liye jeena chahiye,
Sabko khush rakho, sabko saath lekar chalna chahiye,
Bas bas aise he zindagi jeena chahiye.
Zindagi har sukh, har dukh me
Bohot kuch sikhati hai,
Zindagi kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gam de jaati hai,
Kuch bhi nahi hai mere paas, ye sochna chhod do,
Har dukh, taklifo ko bhool kar
Zindagi jio, tumhara khush rehna he,
Tumhari zindagi hai, sabko pyar do, khushi do,
Chhoti he sahi, but zindagi yahi sikhati hai,
Kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kai yaade dil me chhod jaati hai,
Kisi se kuch bhi ummid mat rakho,
Sada aage badhte rehna chahiye,
Zindagi kabhi hasati hai,kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gum deti hai,

-Nitesh Sharma

 

Hindi Poems on Motivation-जो करना है आज करो


जीवन के इस मेले में, नहीं किसी का इंतजार करो।
जो करना है ,आज करो।।
अपनी राह पर चलते जाओ, नहीं किसी का आस करो।
जो करना है,खास करो।।
कुछ करना है तो,स्वयं करो, नहीं किसी का होड़ करो।
जो करना है,बेजोड़ करो।।
प्रकृति के प्रांजल में, कुछ तो तुम उपकार करो।
जो करना है,बेशुमार करो।।
अपने मन की सरिता में, तुम निर्मल नौका-विहार करो।
जो करना है,इस बार करो।।
अपने मन के भावों को, चाहे जितना विस्तार करो।
जो करना है,बेमिशाल करो।।

-अभिषेक कुमार

Jivan ke es mele mein, nahi kisi ka intezaar karo
Jo karna hai aaj karo.
Apnai raah par chalte jao nahi kisi ka aas karo
Jo karna hai khas karo .
kuch karna hai to Swayam karo nahi kisi ka haud karo

Jo karna hai bejaud karo.
Pprakarti ke pranjaal mein kuch to tum upkaar karo
Jo karna hai beshumaar karo.
Apne man ki sarita mein, tum nirmal nauka-vihaar karo
Jo karna hai es baar karo .
Apne man ke bhavo ko, chahe jitna vistar karo
Jo karna hai bemishaal karo.

-Abhishek Kumar

Hindi Poem on God – मैंने देखा है खुदा को


 

हां मैंने देखा है खुदा को कूड़े के ढेर पर कचरा बिनते
मासूम बच्चो के हसीं सपनो में हां मैंने देखा है
खुदा को बड़ी सी कोठी में अकेली लेटी
बेबस माँ की चेहरे की झुर्रियों में हां मैंने देखा है
खुदा को मौत की छाती पर जंग लड़ते
सिपाही के हौसलों में हां मैंने देखा है
खुदा को निस्वार्थ परोपकार में जिंदगी लुटाते
अनगिनत सज्जनो के भावो में हां मैंने देखा है
खुदा को थके हुए मुसाफिर के अडिग चाल में
हां मैंने देखा है खुदा को मुश्किलों से लड़ते
हर उस शख्स में जिसने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी
जिसने कभी हार नहीं मानी जिसने त्याग से,
बलिदान से जिंदगी को नए मायने दिए
समाज को ,धर्म को ,राष्ट्र को अपनी खुशबु से
महकाया अपनी रौशनी से उज्जवल किया हां
मैंने देखा है खुदा को ……..

– जितेंद्र जैन 

Haan mene dekha hai khuda ko kude ke dheir pe kachara binte
Masoom bachon ke hasin sapno mein hanmene dekha hai
Khuda ko badi si kothi me akeli leti
Bebas maa ki chehre ki jhuriyaan mein haan menee dekha hai
Khuda ko maout ki chati par jung ladte
Sipahi ke hoslon mein haan mene dekha hai
Khuda ko niswarth propkaar mein zindgi lutate
Anginat sajanno ke bhavo mein haan mene dekha hai
Khuda ko thake hue musafir ke aadig chal mein
Haan mene dekha hai khuda ko mushliyon se ladte
Har us shkas mein jisne kabhi umid nahi chodi
Jisne kabhi haar nahi mani jisne tyaag se
Balidaan se zindagi ko naye mayne diye
Samaj ko dharam ko rashtra ko apni khushbu se
Mhkaya apni roshni se ujwal kiya hai haan
Mene dekha hai khuda ko…

-Jitendra Jain

Hindi Poems on Life- ज़िन्दगी का तज़ुर्बा


बे क़दरों  में रहे हम

बे क़दरों में रहे हम
क़दर हमें अपनी ही न थी
कदरदानों में जाके देखा
इतने बुरे तो हम भी नहीं
सजती है मेरी शिरक़त से आज महफ़िल
इतनी ऊँची क्या पता था
ज़िन्दगी का तज़ुर्बा यह मुक़ाम देगा
दौर हम पे ऐसे भी गुज़रा है
ए हसीन जब बाज़ार से आँखे भर कर
खाली हाथ लौट आये करते थे हम

-हसीन कुरेशी


Bekadron mein rahe hum
Qadar humein apni hi na thi
Qadrdano main jake dekha
Itne bure toh hum bhi nahi
Sajati hai meri shiraqt se aaj mehfheel
Inti oonchi kya pata tha
Zindagi ka tajurba yeh muqam dega
Daur hum pe aisa bhi guzara hai
Aye haseen jab bazaar se aankhein bhar kar
Khali haath laut aya karte the hum

-Hasin Qureshi