Tag Archives: प्रेरणादायक हिन्दी कविता

Hindi Poems on Motivation-तू लड़ तो सही मेरे यार


तू लड़ तो सही मेरे यार
तू होगा सफल मेरे यार
खुद पर भरोसा रख
तू होगा सफल मेरे यार
ये जुनून जो बीतर है,
उसको बहार तो ला मेरे यार
सब कुछ फतेह करेगा तू
बस लड़ तो सही मेरे यार
किस बात का डर है यार
तू भाहर तो निकल यार
तू फौलादी सीना है
सब को दिखा दे यार
तू लड़ तो सही मेरे यार
अब पीछे नहीं जाना है
बस आगे बढ़ना है
मंजिल पाकर अब वापस आना है यार
बस तू लड़ तो सही मेरे यार

-अनुभव मिश्रा

Tu lad to sahi mere yaar
Tu hoga safal mere yaar
Khud pa bharosa rakh
Tu hoga safal mere yaar
Ye janoon jo bhitar hai
Usko bahar to laa mere yaar
Sab kuch fatah karega tu
Bas lad to sahi mere yaar
Kis baat ka dar hai yaar
Tu bahar to nikal yaar
Tu fauladi sina hai
Sab ko dikha de yaar
Tu lad to sahi mere yaar
Ab piche nahi jana hai
Bas aage badna hai
Manjil pa kar ab bapis aana hai yaar
Bas u lad to sahi mere yaar

-Anubhav Mishra

Advertisements

Hindi Poem on Motivation – क्या बात करूँ


क्या बात करूँ मैं लोगो की
सब आप बताये बैठे है
कुछ दर्द छुपाये बैठे है
कुछ ख़्वाब छुपाये बैठे है

कुछ हस्ते है ऊपर ऊपर
कुछ रोते है नकली नकली
कुछ बातें ऐसे करते है
संसार चलाये बैठे है

सच झूठ किसी की बातों का
कुछ पता नहीं चलता अब तो
कुछ के सच भी अब झूठ लगे
कुछ झूठ चलाये बैठे है

ख्वाबों का पर्दा यहाँ पर अब
बंद सा है खुलता ही नहीं
संसार समाज सभी अपने
अधिकार बताये बैठे है

इस दुनिया में अगर कुछ करना है
अपनी मर्ज़ी की करना तू
हो सफल अगर तो बात ही क्या
पर न हो तो मत डरना तू

बस चलता जा तू सही डगर
और पीछे कभी न मुड़ना तू
जब पहुंचेगा तू मज़िल पर
वो बात अलग ही सी होगी

तुझसे मिलने को सब “वोह ” लोग
कतार लगाये बैठे है

-मुसाफ़िर

Kya baat karu mein logo ki,
Sab aap bataye baithe hai.
Kuch dard chupaye baithe hai,
Kuch khawab chupaye baithe hai.

Kuch haste hai upar upar,
Kuch rote hai nakli nakli.
Kuch baatein aesi karte hai,
Sansar chalye baithe hai.

Sach jhooth kisi ki baaton ka,
Kuch pata nhi chalta ab toh.
Kuch ke sach bhi ab jhooth lage,
Kuch jhooth chalye baithe hai.

Khwabon ka parda yaha par ab,
Band sa hai khulta hi nahi.
Sansar samaj sabhi apne,
Adhikar bataye baithe hai.

Is duniya me agar kuch karna hai,
Apni marzi ki karna tu.
Ho safal agar to baat hi kya,
Par na ho to mat darna tu.

Bas chalta ja tu sahi dagar,
Or peeche kabhi na mudna tu.
Jab pahuchega tu manzil par,
Vo baat alag hi si hogi,

Tujhse milne ko sab “voh” log,
Kataar lagaye baithe hai..

-Musafir

Hindi Poems on Motivation – नामुमकिन कुछ भी नही


मत सोच ,
तु है कुछ भी नही
बस सोच,
सब कुछ है
सही सही
हो जाए गर असफल ,
होना दुखी नही
समेट अपनी ताकत
रही सही बस
फिर देखना नामुमकिन
कुछ भी नही…

– वंदना सिलोरा 

Mat soch
Tu he kuch bhi nhi
Bas soch
Sab kuch hai
sahi sahi
Ho jaye agar asafal
To hona dukhi nhi
Samet apni takat
Rahi sahi  Bas
Phir dekhna namumkin
Kuchh bhi nhi…

-Vandana silora

Hindi Poem On Self Improvement – खो कर अपने आप को


खो कर अपने आप को क्या कोई दूर जा पाया है
झूठे नाम के ख़ातिर ख़ुद को भुलाया है
ऐ बन्दे समझ तू अपनी असलियत को
ईस्वर तुझे इस संसार के लिये बनाया है
जो गुज़र गया है उसमे खुद को तूने समझाया है
आने वाली कल की चिंता ने आज को जलाया है
क्यों समझ नहीं आता इन प्यारे बुद्धि जीवियों को
की परमात्मा ने सब इसी पल के लिये बनाया है
बेबस हो रहा है पर खुद को  ना शक्तिशाली बनाया है
हो रही मुश्क़िलों को औरों वजह बताया है
एक काम जो तू वर्षो से टालता आया है
जरा रुक ! और देख ईश्वर ने तुझे एक ख़ासियत से बनाया है

– नवनीत कुमार तिवारी

Khokar apne aap ko Kya Koi door jaa paya hai,
Jhuthe naam ke khatir khud ko bhulaya hai
Ae bande samajh tu apni asaliyat ko,
Eswar ne tujhe iss sansar ke liye banaya hai.
Jo guzar Gaya hai usme khud ko tune samaya hai,
Aane wali Kal ki chinta ne aaj ko jalaya hai,
Kyo samajh nahi aata inn pyare budhhijiviyon ko,
Ki parmaatma ne sab isi pal ke liye banaya hai.
Bebas ho Raha hai par khud kp na shaktishali banaya hai,
Ho Rahi mushkilon ko auron ki wajah bataya hai,
Ek Kam Jo tu varso se talta aaya hai ,
Jara rukk! Aur dekh eswar ne tujhe ek khashiyat se bunaya hai..

-Navneet Kumar Tiwari

Hindi Poem On Confidence – मैं बातें बनाता नहीं


फिसल जाती जुबान, निकल जाते लफ्ज़।
ह्रदय के किसी छोर से।
मैं बातें बनाता नहीं, बस बन जाती है।

मिट्टी से सृजित काया इसी में मिल जाएगी।
तो अहं कैसा,किस बात का।
मैं बातें बनाता नहीं, बस बन जाती है।

ना बड़ा,ना श्रेष्ठ, अभी तो अबोध हूँ।
बालक हूँ,ह्रदय भी बालक तुच्छ-सा,र्निविकार।
मैं बातें बनाता नहीं, बस बन जाती है।

सिध्दांत से अनभिज्ञ हूँ.
अन्तःमन की हर व्यथा व्यक्त कर देता हूँ।
शब्द जरुर कम होँगे, मगर भाव नहीं।
मैं बातें बनाता नहीं, बस बन जाती है।

जीवन ने इम्तिहान लिया,
बदले में अनुभव दिया।
उसी अनुभव के सहारे, चल पडा हूँ।
मैं बातें बनाता नहीं, बस बन जाती है।

-हितेश कुमार गर्ग

Fisal jati hai zubaan, nikal jati hai lafz
Hriday ke kisi chhor se
Main baatein banata nahi, bas ban jati hai

Mitti se sarjit kaya esi mein mil jayegi
To ahan kesa kis baat ka
Main baatein banata nahi, bas ban jati hai

Na bada, na shreshth, abhi to abodh hoon
Balak hoon hriday bhi balak tuchh-sa nirvikaar
Main baatein banata nahi, bas ban jati hai

Sidhant se anbhigy hoon
Anat:man ki har vyatha vyakat kar deta hoon
Shabad jarur kam honge magar bhav nahi
Main baatein banata nahi, bas ban jati hai

Jivan ne imtihaan liya
Badle me anubhav diya
Usi anubhav ke share chal pda hoon
Main baatein banata nahi, bas ban jati hai

-Hitesh Kumar Garg