Tag Archives: self motivation poem hindi

Hindi Poem on Success-वो आज कामयाब है


वो आज कामयाब है, क्योंकि
जब वो जग रहे थे रातो में ,
तब हम सो रहे थे ख्वाबो में।
जब वो पढ़ रहे थे किताबो को ,
तब हम पढ़ रहे थे व्हाट्सप्प को।
जब वो कर रहे थे कोशिश
अपनों का सपना पूरा करने की,
तब हम कर रहे थे कोशिश गैरो का
सपना पूरा करने की ।
जब वो नजरबन्द थे एक कमरे में ,
तब हम दिख रहे थे सिटी मॉल,
सिनेमा हालो में । जब वो उलझे थे
किताबो से , तब हम उलझे थे
राजनीतिक मुद्दों से ।
जब वो उलझे थे देश-विदेश की खबरों में ,
तब हम उलझे थे गांव देश की फ़ोन कालो में ।
वो आज कामयाब है.

-राहुल पटेल

Wo aaj kamyaab hai kyuki
Jab wo jaag rahe they raaton mein
Tab hum so rhe they khwabon me
Jab wo padh rhe they kitabon ko
Tab hum padh rhe they whatsapp ko
Jab wo kar rhe they koshish
Apno ka sapna pura karne ki
Tab hum kar rhe thay koshish garon ka sapna pura kane ki
Jab wo nazar band they ek kamre mein
Tab hum dikh rhe they siti mall cinema haalon mein
Jab wo uljhe they kitaabon se
Tab hum uljhe they rajnatik mudho se
Jab wo desh videsh ki khabron mein
Tab hum uljhe they gaon ki phone callon mein
Wo aaj kamyaab hai

-Rahul Patel

Hindi Poems on Motivation – नामुमकिन कुछ भी नही


मत सोच ,
तु है कुछ भी नही
बस सोच,
सब कुछ है
सही सही
हो जाए गर असफल ,
होना दुखी नही
समेट अपनी ताकत
रही सही बस
फिर देखना नामुमकिन
कुछ भी नही…

– वंदना सिलोरा 

Mat soch
Tu he kuch bhi nhi
Bas soch
Sab kuch hai
sahi sahi
Ho jaye agar asafal
To hona dukhi nhi
Samet apni takat
Rahi sahi  Bas
Phir dekhna namumkin
Kuchh bhi nhi…

-Vandana silora

Hindi Poem On Self Improvement – खो कर अपने आप को


खो कर अपने आप को क्या कोई दूर जा पाया है
झूठे नाम के ख़ातिर ख़ुद को भुलाया है
ऐ बन्दे समझ तू अपनी असलियत को
ईस्वर तुझे इस संसार के लिये बनाया है
जो गुज़र गया है उसमे खुद को तूने समझाया है
आने वाली कल की चिंता ने आज को जलाया है
क्यों समझ नहीं आता इन प्यारे बुद्धि जीवियों को
की परमात्मा ने सब इसी पल के लिये बनाया है
बेबस हो रहा है पर खुद को  ना शक्तिशाली बनाया है
हो रही मुश्क़िलों को औरों वजह बताया है
एक काम जो तू वर्षो से टालता आया है
जरा रुक ! और देख ईश्वर ने तुझे एक ख़ासियत से बनाया है

– नवनीत कुमार तिवारी

Khokar apne aap ko Kya Koi door jaa paya hai,
Jhuthe naam ke khatir khud ko bhulaya hai
Ae bande samajh tu apni asaliyat ko,
Eswar ne tujhe iss sansar ke liye banaya hai.
Jo guzar Gaya hai usme khud ko tune samaya hai,
Aane wali Kal ki chinta ne aaj ko jalaya hai,
Kyo samajh nahi aata inn pyare budhhijiviyon ko,
Ki parmaatma ne sab isi pal ke liye banaya hai.
Bebas ho Raha hai par khud kp na shaktishali banaya hai,
Ho Rahi mushkilon ko auron ki wajah bataya hai,
Ek Kam Jo tu varso se talta aaya hai ,
Jara rukk! Aur dekh eswar ne tujhe ek khashiyat se bunaya hai..

-Navneet Kumar Tiwari

Hindi Poems on Motivation – भँवर में सही


भँवर में सही कश्ती को मोड़कर तो देखो
बारिश में पैर जमीं पे गड़ाकर तो देखो

कुछ भी है मुमकिन अगर ठान लें हम सब
हाँथ समानता की ओर बढ़ाकर तो देखो

भेदभाव ख़त्म कर अब अपनी बेटी को
शिक्षा के शिखर पर चढ़ाकर तो देखो

हुनर है इनमे दुनियाँ को बदलने का
बेटियों को बेटों सा पढ़ाकर तो देखो

हैं इनमे सुनीता और कल्पना सी उड़ान
इनके पंखो को फड़फड़ाकर तो देखो ।

– राहुल रेड

Bhanvar mein sahi kashti ko modkar to dekho
barish mein pair zamin pe gada kar to dekho

Kuch bhi hai mumkin agar thaan le hum sab
Hath smanta ki oor badha kar to dekho

Bhed bhav khatam kar ab apni beti ko
Shiksha ke shikhar par chadha kar to dekho

Hunar hai inmein duniya ko badalne ka
Betiyon ko beto sa padha kar to dekho

Hai inmein sunita aur kalpana si udaan
Inke pankhon ko fadfada kar to dekho

– Rahul Red

Hindi Poem on Success – बदलेगी ये दुनिया


बदलेगी ये दुनिया
सोच तो बदल के देखो
ये लक्ष्य होंगे पूरे
मेहनत तो कर के देखो
गरीबी में जिओं
मगर ख़्वाब अमीरो का देखों
सारे खवाब होंगे पूरे
पहले सपने तो देखों
ज़िंदगी सुधर जायेगी
इंसान तो बन कर देखो
जीना मरना सबको है
ज़रा  महान बन कर देखो
झूठ तो बहुत बोले होंगे
कभी सच तो बोल कर देखो
सफल ज़रूर होंगे एक दिन
एक कदम तो बढ़ाकर देखो

-सौरव कुमार आदर्श

Badlegi ye duniya
Soch to badal ke dekho
Ye lakshay honge pure
Mehnat to karke dekho
Garibi me jio
Magar khawab amiro ka dekho
Sare khawab honge pure
Pahle sapne to dekho
Jindagi sudhar jayegi
Insan to bankar dekho
Jina-Marna to sabko hai
Jara Mahan bankar dekho
Jhuth to bahut bole hoge
Kabhi sach to bolkar dekho
Saphal jarur hoge ek din
Ek kadam to badhakar dekho

Saurav Kumar (Aadarsh)